ALS : एक परिचय

ALS सिविल सेवा हेतु देश का सबसे प्रामाणिक एवं विश्वसनीय संस्थान है जो विगत 25 वर्षों से अंग्रेजी माध्यम तथा 17 वर्षों से हिंदी माध्यम के अभ्यर्थियों को प्रशिक्षण देने में संलग्न है। अनुभव के संबंध में ALS राष्ट्रीय स्तर पर विशिष्ट स्थान रखता है। ALS एकमात्र संस्थान है जहाँ देश के सभी विषयों के प्रख्यात विशेषज्ञ एक ही मंच पर प्रशिक्षण प्रदान करते हैं तथा जिसके प्रत्येक शिक्षक को 300 से 400 बैचों को प्रशिक्षण देने का अनुभव प्राप्त है। संस्थान में प्रत्येक वर्ष सामान्य अध्ययन तथा वैकल्पिक विषयों की 22 से अधिक बैचें संचालित की जाती हैं। ALS एकमात्र संस्थान है जो सामान्य अध्ययन के प्रारंभिक तथा मुख्य परीक्षा की अलग-अलग आवश्यकताओं के दृष्टिगत संपूर्ण सारगर्भित तथा परिणामोन्मुखी प्रशिक्षण कार्यक्रम संचालित करता है।

प्रतियोगियों को परीक्षा की दृष्टि से एक मजबूत आधार देने के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम के प्रारंभ में आधारभूत कक्षाओं का आयोजन होता है। इस कक्षा में विभिन्न विषयों से जुड़ी आधारभूत संकल्पनाओं तथा सामान्य ज्ञान संबंधी अन्य अवधारणाओं को समझाने पर बल दिया जाता है।

परीक्षा की दृष्टि से प्रासंगिक एवं गुणवत्तापूर्ण अध्ययन सामग्री निर्माण पर भी ALS में विशेष बल दिया जाता है। ALS एवं इसकी सहयोगी संस्थाएं Competition Wizard तथा Career Classics प्रकाशन की अनुसंधान एवं विकास टीम (R & D) निरंतर इस दिशा में प्रयत्नशील रहती है। सिविल सेवा परीक्षा हेतु 60 से अधिक पुस्तकों का प्रकाशन इसी शोध एवं विकास टीम के द्वारा किया गया है जो कि छात्रों के मध्य अत्यंत लोकप्रिय है।

ALS एकमात्र संस्थान है जो छात्रों के सर्वांगीण विकास पर केंद्रित प्रशिक्षण कार्यक्रम का संचालन करता है। इसीलिए गहन शैक्षणिक कार्यक्रम के साथ-साथ यहां पर समय-समय पर वाद-विवाद प्रतियोगिता, सांस्कृतिक कार्यक्रम तथा खेल स्पर्धाओं (Sports Meet) का आयोजन किया जाता है।

ALS में 200 से 350 छात्रों के बैठने की क्षमता वाली वातानुकूलित एवं अत्याधुनिक तकनीक से सुसज्जित कक्षाएं हैं जिनमें आॅडियो-विजुअल एवं प्रोजेक्टर के द्वारा मल्टीमीडिया शिक्षण पद्धति का प्रयोग किया जाता है।

सिविल सेवा प्रशिक्षण कार्यक्रम की उपरोक्त विशेषताओं तथा कुशल निर्देशन का ही परिणाम है कि विगत वर्षों में ALS संस्थान से 2439+ छात्र/छात्राओं का चयन सिविल सेवा परीक्षा में हुआ है। वर्तमान सत्र से पूर्व सिविल सेवा के 3 टाॅपरों का चयन इसी संस्थान से हुआ है।